Shree Thillai Natarajar Temple - श्रीनटराज मंदिर, चिदंबरम, तम्मिल नाडु, भारत

Pancha Bhoota Stalam or Pancha Bhoota Stala

पंचा भूटला स्टालम या पंच शिव मंदिर, शिव को समर्पित पांच शिव मंदिरों, प्रत्येक प्रकृति के पांच प्रमुख तत्वों - भूमि, जल, वायु, आकाश, अग्नि का प्रतीक दर्शाते हैं|

Shree Thillai Natarajar Temple - श्रीनटराज मंदिर, चिदंबरम, तम्मिल नाडु, भारत

Shree Thillai Natarajar Temple - श्रीनटराज मंदिर, चिदंबरम, तम्मिल नाडु, भारत

देवाधिदेव भगवान शिव को सर्वोच्च देवता के रूप में पूजने वाले उपासकों के लिए तमिल नाडु में चिदंबरम का नटराज मंदिर आस्था के प्रमुख केंद्रों में से एक है। मान्यता है कि कैलाशपति ने इस पवित्र स्थान को अपनी सभी शक्तियों से उपकृत किया है, जिनका सृजन भी उन्होंने यहीं किया।

पौराणिक संदर्भ

पुराणों के मुताबिक भगवान यहाँ प्रणव मंत्र 'ॐ' के आकार में विराजमान हैं। यही वजह है कि आराधक इसे सबसे अहम मानते हैं। चिदंबरम भगवान शिव के पाँच क्षेत्रों में से एक है। इसे शिव का आकाश क्षेत्र कहा जाता है।

नटराज स्वरूप

शिव के नटराज स्वरूप के नृत्य का स्वामी होने के कारण भरतनाट्यम के कलाकारों में भी इस जगह का खास स्थान है। मंदिर की बनावट इस तरह है कि इसके हर पत्थर और खंभे पर भरतनाट्यम नृत्य की मुद्राएँ अंकित हैं। मंदिर के केंद्र और अम्बलम के सामने भगवान शिवकाम सुंदरी (पार्वती) के साथ स्थापित हैं। चिदंबरम रहस्य मंदिर की अन्य खासियतों में शुमार है। इसे जानने के लिए आपको एक तय राशि यहाँ देनी पड़ती है। मंदिर की देखरेख और पूजा-पाठ पारंपरिक पुजारी करते हैं। हालाँकि सारा प्रबंधन श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ावे और दान के रूप में दिए गए धन से होता है। मंदिर शिव क्षेत्रम के रूप में भी प्रसिद्ध है। यहाँ भगवान गोविंदाराज की प्रतिमा भी है, जो शिव के बिलकुल निकट स्थापित हैं। मंदिर में एक बहुत ही खूबसूरत तालाब और नृत्य परिसर भी है। यहाँ हर साल नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जाता है, जिसमें देशभर से कलाकार हिस्सा लेते हैं।